क्या कोरोना महामारी में MMMUT एंट्रेंस एग्जाम कराकर बच्चों की जान के साथ खिलवाड़ कर रहा?

0
110
Advertisement

गोरखपुर। पूरा विश्व कोरोना महामारी के चलते परेशान है कई देशों में स्कूल कॉलेज सब बन्द हैं। भारत में भी कोरोना के बढ़ते मामले को देखते हुए सरकार ने सभी स्कूल कॉलेज बन्द रखने के आदेश दिए हैं। उत्तर प्रदेश में भी कोरोना के आंकड़े लगातार बढ़ रहे हैं बात गोरखपुर की करें तो यहां भी कोरोना के मामले रोजाना बढ़ रहे हैं। यहां कोरोना का आंकड़ा 2200 पार कर गया है। प्रशासन जहां लोगों से घर में रहने की अपील कर रहा तो इसी बीच मदन मोहन मालवीय विश्वविद्यालय द्वारा अजीबों गरीब कदम उठाया जा रहा है।

विश्वविद्यालय द्वारा बीटेक,एमबीए,बीबीए आदि कोर्सेज के लिए आगामी 8 अगस्त को एंट्रेंस एग्जाम कराने का फैसला किया गया है। अब विश्वविद्यालय प्रशासन आखिर क्या सोचकर इस संकट की घड़ी में एग्जाम करा रहा है ये तो हमें नहीं पता हां पर इतना जरूर पता है कि विश्वविद्यालय द्वारा इस समय पेपर कराया जाना बिल्कुल भी सुरक्षित नहीं है।

विश्वविद्यालय द्वारा 8 अगस्त को कराए जा रहे एंट्रेंस एग्जाम का कई छात्र-छात्राओं ने विरोध भी किया है और कई सोशल साइट्स सहित ट्विटर पर इसका विरोध कर भी रहे हैं। छात्र-छात्राओं का कहना है कि मौजूदा समय में पेपर कराना खतरे से खाली नहीं है। एंट्रेंस एग्जाम देने छात्र-छात्राएं ना जाने कहाँ कहाँ और कितने दूर से कैसे आएंगे।

Advertisement

इस बीच अगर कोई भी एक छात्र-छात्रा संक्रमित हुए तो सोचिए स्थिति क्या होगी? खैर विश्वविद्यालय द्वारा कराए जा रहे पेपर का विरोध छात्र-छात्राओं द्वारा जारी है तो अब देखना होगा कि क्या MMMUT 8 अगस्त को पेपर कराता है या फिर उसे बच्चों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए टाल देता है?