समाजसेवी सुरेन्द्र दीक्षित की पंद्रहवी पुण्यतिथि के अवसर पर संगोष्ठी एवं सम्मान समारोह का आयोजन

1503

स्वर्गीय सुरेन्द्र दीक्षित की पंद्रहवी पुण्यतिथि के अवसर पर संगोष्ठी एवं सम्मान समारोह का आयोजन किया गया जिसका विषय “छात्रों के जीवन में सुधार लाने एवं मानव को मानवता का नवीन ज्ञान और दृष्टिकोण” था।

Advertisement

कार्यक्रम की शुरुआत बच्चो ने सरस्वती वंदना से किया, इस अवसर पर हनुमान इंटर कॉलेज पडरौना के प्रधानाचार्य शैलेंद्र दत्त शुक्ल ने कहा की सुरेंद्र दीक्षित असली समाजसेवी थे।अगर उनके पास कोई भी व्यक्ति जाता था तो वापस खाली हाथ नहीं लौटता था और आज उसी क्रम को जारी रखे हुए है उनके पुत्र पंकज दीक्षित जो दीन दुखियो की मदद करते रहते है।

बीजेपी नेता व राष्ट्रीयकार्य परिषद् सदस्य लल्लन मिश्र ने कहा की जब समाज हित में कार्यो की चर्चा होती है तब सुरेंद्र दीक्षित ने जो अपने जीवनकाल में गरीब वर्ग के लिए कार्य किया है उससे सिख लेना चाहिए। आजकल के बच्चो को भी पंकज से सिख लेनी चाहिए जो अपने माँ बाप को अभी तक जिंदा रखे हुए है।

अंत में कार्यक्रम को स्वर्गीय सुरेंद्र दीक्षित के पुत्र पकंज दीक्षित ने कहा की मेरे पिताजी आज भी मेरे साथ हैं, मैं जहा भी जाता हूँ वह मेरे साथ रहते है और हमेशा कुछ अच्छा करने को प्रेरणा देते है।
इस अवसर पर समाज के विभिन्न क्षत्रो में कार्य करने वाले लोगो को समानित भी किया गया ल। कुशीनगर रत्न डॉक्टर अरुण गौतम को, स्वास्थ के क्षत्र में डॉक्टर महमूद आलम सिकंदर अली। सामाजिक कार्य के लिए दीपक को, शिक्षा के क्षेत्र में मदन मोहन पांडेय एवंम केदारनाथ द्विवेदी को दिया गया । पत्रकारिता के क्षेत्र में उत्कृष्ठ कार्य के लिए राजीव मिश्र मनोज शुक्ल और गोरखपुर लाइव के संवादाता आयूष दुबे को सम्मानित किया गया ।