हिमाचल प्रदेश के राज्यपाल ने किया राजल नीति-4 का विमोचन

1462

गोरखपुर। बेस्ट सेलिंग लेखक राजल की चौथी पुस्तक का विमोचन हिमाचल प्रदेश के राज्यपाल शिव प्रताप शुक्ला के द्वारा हुआ इस अवसर पर राज्यपाल ने पुस्तक की सफलता के लिए आशीर्वाद स्वरुप शुभकामनाएँ दीं | इससे पहले राजल नीति श्रृंखला की पुस्तकों का विमोचन मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ व उत्तर प्रदेश के तत्कालीन राज्यपाल राम नाईक के द्वारा हो चुका है, और उनकी पुस्तक को तत्कालीन उपराष्ट्रपति वेंकया नायडू के द्वारा शुभकामना संदेश प्राप्त करने का भी सौभाग्य मिल चुका है |

Advertisement

राजल की पुस्तक राजल नीति टाइम मैनेजमेंट बेस्ट सेलर रही और टाइम मैनेजमेंट विषय पर अब तक किसी भी भारतीय लेखक की पुस्तक का अनुवाद इतनी भाषाओं में नहीं हुआ जितना राजल के द्वारा लिखी राजल नीति टाइम मैनेजमेंट का हुआ और यह पुस्तक अंग्रेजी, हिंदी, बांग्ला, मराठी,गुजराती,ओड़िया इत्यादि भाषाओं में उपलब्ध है |बेहतर टाइम मैनेजमेंट के ही कारण उन्होंने 9 डिग्री सर्टिफिकेट अर्जित किये जिसमे एल. एल.बी., पी.जी.जे.एम.सी(जर्नालिज्म), पी.जी.डी.बी.ए और बी लेवल जैसी 4 प्रोफेशनल डिग्रियां भी प्राप्त की |

राजल नीति – 4 का प्रकाशन चाचा चौधरी जैसी विश्व विख्यात कॉमिक्स प्रकाशित करने वाली देश की अग्रणी प्रकशन कम्पनी डायमंड बुक्स के द्वारा हुआ है | यह पुस्तक भारत की स्वतंत्रता के 75 वर्ष पूरे होने के अवसर पर लिखी गयी है और इसे भारत माता को समर्पित किया गया है |इस पुस्तक में राजल ने बताया है की अधिकांश लोग सोचते हैँ की यदि आप खिलाड़ी हों, बड़े उद्यमी हों या राजनीती से जुड़े हों या किसी बड़े पद पर हों तभी हम देश की प्रगति और सम्मान में योगदान दे सकते हैँ पर देश का प्रत्येक नागरिक कुछ छोटी-छोटी चीजें करें तो भारत की प्रगति में अपना योगदान दे सकता है जैसे प्रदुषण ना फैलाकर,नियंत्रित गति में गाड़ी में चलाकर, जल का समझदारी से इस्तेमाल करके, भ्रूण हत्या रोककर इत्यादि जैसी कुछ अनेकों छोटी छोटी चीजें करके एक बेहतर समाज और एक शानदार भारत का निर्माण कर सकता है |

राजल बताते हैँ की वो आज जो कुछ भी हैँ अपने दादाजी स्वर्गीय राधेश्याम गुप्त की वजह से है साथ ही साथ उन्होंने सदैव मिलने वाले सपोर्ट के लिए डायमंड ग्रुप के चेयरमैन नरेन्द्र वर्मा का भी आभार व्यक्त किया |