प्याज़ की हो रही है कालाबजारी, DRI टीम ने करोड़ो के प्याज़ को कब्जे में लिया

519

महराजगंज। आलू के नाम पर हो रही थी प्याज की कालाबजारी जिसके बाद सकते में आ गई।रेवेन्यू इंटेलिजेंस के अधिकारियों को गोपनीय सूचना मिली कि भारत से नेपाल में प्याज की तस्करी की जा रही है. इसके लिए डीआरआई के अधिकारियों ने नौतनवा सहित नेपाल में भी जांच कमेटी गठित कर जब जांच कराई तो आलू के नाम पर नेपाल में प्याज भेजने की बात सामने आई.

Advertisement

गोरखपुर से खबर है कि टीडीएम तिराहे के पास बाइक सवार तीन बदमाश एक बोरी में रखे 50 किलो प्याज लूटकर फरार हो गए । लूटा गया प्याज मंडी के फिरोज अहमद थोक व्यापारी की दुकान से रिक्शे से दो होटलों में जा रहा था। रिक्शेवाले ने बताया कि वह जब टीडीएम तिराहे के पास से निकला तो बाइक पर आए तीन बदमाश उसकी रिक्शे में रखी बोरी ले भागे जिसमे 50 किलो प्याज थी। लूटपाट की सूचना मिलते ही पुलिस ने मौके पर पहुंच जांच शुरू कर दी है ।

जांच के दौरान सामने आए तथ्यों के आधार पर शुक्रवार की सुबह डीआरआई की टीम ने महराजगंज के नौतनवां से प्याज तस्करी के आरोपी सन्नी कुमार मद्धेशिया को पकड़ लिया.

यह गिरफ्तारी महाराजगंज के नौतनवा से हुई है. आरोप है कि सनी ने आलू बताकर 36 सौ कुंतल प्याज नेपाल भेजी. आरोपी व्यापारी को DRI की टीम ने लखनऊ जेल भेज दिया है. गौरतलब है कि इस वक्त देश में प्याज के दाम आसमान छू रहे हैं. प्याज की बढ़ी कीमतों के कारण तस्कर भी सक्रिय हो गए है।

प्याज के निर्यात पर है रोक

बढ़ती कीमतों के कारण प्याज के निर्यात पर पूरी तरह रोक लगी है. सरकार के कदम को धता बताते हुए व्यापारी भी मोटा मुनाफा कमाने के प्रयास में अलग रास्ते अख्तियार कर रहे.

सनी मद्धेशिया भी आलू के कागजात बनवाता रहा और इसके नाम पर पड़ोसी देश को प्याज भेजता रहाहै। डीआरआई अधिकारियों से मिली जानकारी के अनुसार सनी ने पूछताछ में कुछ और तस्करों के नाम बताए हैं।अब उन आरोपियों को भी गिरफ्तार करने के लिए डीआरआई टीम दबिश दे रही है।

उधर , प्याज की कालाबाजारी करने वाले कारोबारियों पर DRI की टीम ने नासिक और कानपुर के कुछ प्याज कारोबारियों को चिन्हित करके जांच – पड़ताल शुरू कर दी गई है जिसके बाद नौतनवां – महराजगंज से 3600 कुंतल प्याज नेपाल भेज दी गई।

अब रेवन्यू इंटेलीजेंस के अफसरों ने गलत तरीके से नेपाल और बिहार प्याज भेजने वाले कारोबारियों को निशाने पर लिया है ।

सूत्रों के मुताबिक प्याज की महंगाई की वजह से कालाबाजारी बढ़ी है । इसमें प्याज के कई बड़े कारोबारियों की संलिप्तता उजागर हुई है । अब एक – एक कारोबारी के प्याज के स्टॉक की जांच कराई जा रही है । दस्तावेजों का मिलान करके रिपोर्ट तैयार की जा रही है