अनोखी पहल: मुफ्त स्वास्थ्य सेवा देगी मोबाइल मेडिकल यूनिट

0
56

गोरखपुर। जिले के दो और ब्लॉक जंगल कौड़िया और कैंपियरगंज में निःशुल्क मोबाइल मेडिकल यूनिट (एमएमयू) की सुविधा प्राप्त हो गयी है । इसमें एक एमबीबीएस चिकित्सक, एक स्टॉफ नर्स और फार्मासिस्ट लोगों को सेवाएं देंगे।

Advertisement

यह सेवा अभी तक सिर्फ पिपराईच ब्लॉक में संचालित हो रही थी, लेकिन अब टाटा ट्रस्ट के सहयोग से अन्य दोनों ब्लॉक में भी इसका संचालन किया जाएगा।

इन दोनों एमएमयू का शुभारंभ पिछले माह 28 फरवरी को प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने वाराणी में किया है।

Advertisement

यह जानकारी देते हुए जिला मलेरिया अधिकारी डॉ. एके पांडेय ने तीनों ब्लॉक के लोगों से अपील की है कि किसी भी प्रकार का बुखार होने पर या तो नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र की सेवाएं लें या फिर एमएमयू की सेवा लें।

अप्रशिक्षित व्यक्ति के परामर्श या अपने मन से दवा खरीद कर न खाएं।

जिला मलेरिया अधिकारी ने बताया कि ट्रस्ट के प्रोजेक्ट प्रयास के तहत इंसेफेलाइटिस प्रभावित ब्लॉक को यह सुविधा प्रदान की जा रही है।

Advertisement

दिमागी बुखार यानी इंसेफेलाइटिस होने पर अगर यथाशीघ्र कुशल चिकित्सक की सुविधा मिल जाए तो मृत्यु और दिव्यांगता की आशंका कम हो जाती है। लोगों को दूरस्थ क्षेत्र में उनके घर के नजदीक बुखार होने पर स्वास्थ्य सुविधा मिल सके, इसे एमएमयू के जरिये सुनिश्चित किया जाएगा।

तय माइक्रोप्लान के अनुसार एमएमयू ब्लॉक में भ्रमण करेगी और लोगों को स्वास्थ्य सुविधाएं देगी।

डॉ. पांडेय ने बताया कि पिपराईच ब्लॉक में कार्य कर रही एमएमयू का शुभारंभ भी मुख्यमंत्री ने 29 सितम्बर 2018 को किया था।

Advertisement

ट्रस्ट के प्रोजेक्ट ऑफिसर इंद्रजीत और स्वास्थ्य विभाग के समन्वय में इस एमएमयू ने जनवरी 2021 तक कुल 25741 लोगों को निःशुल्क स्वास्थ्य जांच की सुविधाएं दी हैं।

एमएमयू की जांच एवं परामर्श सेवा में 8797 बुखार के रोगी मिले जिन्हें शीघ्र उपचार की सुविधा दी गयी। पिपराईच ब्लॉक के मधवापुर गांव की विजयलक्ष्मी का कहना है कि जबसे एमएमयू की गाड़ी आने लगी है, दवा और इलाज घर के नजदीक मिलता है।

गाड़ी के साथ आने वाले कार्यकर्ता मच्छरों और साफ-सफाई के बारे में जागरूक भी करते हैं। जिन दवाओं को लेने के लिए अस्पताल जाना पड़ता है, वह घर के नजदीक मिल जाती हैं।

Advertisement
उसका बाजार और पिपराईच में थी सुविधा

एमएमयू की सुविधा अभी तक सिद्धार्थनगर जिले के उसका बाजार ब्लॉक और गोरखपुर जिले के पिपराईच ब्लॉक में उपलब्ध थी।

ट्रस्ट के प्रोजेक्ट ऑफिसर ने बताया कि दोनों जिलों के दोनों ब्लॉक मिला कर सितम्बर 2018 से जनवरी 2021 तक कुल 43000 लोगों को सुविधा प्रदान की गयी।

इनमें 16464 बुखार के रोगी थे जिन्हें शीघ्र उपचार दिया गया। अब यह सुविधा जंगल कौड़िया और कैंपियरगंज में भी उपलब्ध होगी।

Advertisement
लोग सुविधा का लाभ लें

स्वास्थ्य केंद्रों, हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर और एमएमयू की सुविधा इसलिए दी जा रही है ताकि लोग बुखार होने पर प्रशिक्षित चिकित्सक तक पहुंच सकें। जिन क्षेत्रों में एमएमयू की सेवा उपलब्ध है, उन्हें उसका भरपूर लाभ लेना चाहिए।

-डॉ. सुधाकर पांडेय, मुख्य चिकित्सा अधिकारी

Advertisement
Advertisement
Advertisement

Advertisement