जल सत्याग्रह करने जा रहे ग्रामीणों को कार्यवाही का आश्वासन देकर एसडीएम ने मनाया

339

गोरखपुर। उरुवा क्षेत्र के दर्जनों गावों की पानी की निकासी को लेकर उरुवा ताल संघर्ष समिति के जलसत्याग्रह की घोषणा के बाद से ही अधिकारियों के कान खड़े हो गए।सुबह 10 बजे से सत्याग्रह आंदोलन के लिए तैयार सैंकड़ो ग्रामीण उरुवा चौराहे के सिकरीगंज मार्ग पर इकठ्ठे हो गए।सूचना पर मौके पर पहुँचे एसडीएम गोला राजेन्द्र बहादुर ने संघर्ष समिति एवं उपस्थित जनता को जलनिकासी वाले पुल से अतिक्रमण हटाने के आश्वासन पर जनता मानी और जल सत्याग्रह न करने का आश्वासन दिया।

Advertisement

बताते चलें कि उरूवा बाजार चौराहे से 100 मीटर पश्चिम उरूवा सिकरीगंज मार्ग पर स्थित पुल पर अतिक्रमणकारियों ने कई वर्षो से अतिक्रमण कर रखा है।जिसके चलते क्षेत्र के टाॅड़ी ,कोटिया, लोहरा मीरा, कुशलदेईया, बेलासपुर, उरूवा, भिटहा, कोटवा, पिपरा पांडे, महुई, आदि गावों के बरसात का पानी पअवरुद्ध हो जाता है।

जिसके चलते किसानों की कई एकड़ फसल पानी डूब जाती है।इस वर्ष भी जलनिकासी की व्यवस्था न होने के कारण किसानों की फसल पानी मे डूब जाने से बर्बाद हो गयी है।

मौके पर उपस्थित ग्रामीणों में उरुवा ताल जलनिकासी संघर्ष समिति के अध्यक्ष पंचम यादव ,रामदुलारे चौधरी,रामललित सिंह,सौरभ सिंह,डॉ रामसेवक पाण्डेय,जवाहर पाण्डेय, मदनेश,राकेश गौड़,रमेश दयाराम व गिरजाशंकर आदि ने बताया कि उक्त पुलिया पर बीते कई वर्षों से अतिक्रमणकारियों का कब्जा है।

अतिक्रमणकारियों ने पुल का जल निकासी का मार्ग भी अवरुद्ध कर दिया है।जिसके चलते प्रतिवर्ष किसानों की फसल बर्बाद हो जाती है।

उपस्थित लोगों ने बताया कि समस्या के समाधान के लिए मुख्यमंत्री दरबार तक गुहार लगाई गयी।थक-हार कर जल सत्याग्रह करने का निर्णय लेना पड़ा।