राणा हॉस्पिटल की गलती ने लील ली सौरव की जान, आखिर मां को कब मिलेगा न्याय?

964

गोरखपुर। बीते 9 अगस्त को गोरखपुर के राणा हॉस्पिटल में डॉक्टरों की लापरवाही ने धर्मशाला बाजार निवासी सौरव पांडेय की जान ले ली। परिवार का रो रो कर बुरा हाल है।

सौरव की 8 माह की बच्ची भी है जिसे अब पिता का प्यार कभी नहीं मिलेगा। 2 साल पहले ही अभी सौरव की शादी हुई थी, घर वालों की माने तो सौरव के पेट में हल्का दर्द हुआ जिसके बाद वो राणा हॉस्पिटल गया जहां डॉक्टरों ने उसके साथ पता नहीं क्या किया कि उसकी तबियत बिगड़ गयी।

Advertisement

परिवार वालों को बताया गया कि सौरव की तबियत बहुत खराब हो गयी है इसे लेकर तुरंत आप लोग लखनऊ जाइये।

परिवार वाले एम्बुलेंस की तलाश में इधर उधर भटकते है फिर कहीं जाकर उन्हें एम्बुलेंस मिलता है लेकिन तभी जब सौरव को एम्बुलेंस में रखा जा रहा था तो उसकी मां को कुछ शक होता है।

मां अपने लाल की सांस टटोलती है लेकिन सब सुन्न था इसके बाद मां वहीं रोने लगती है क्योंकि उसे सब समझ आ गया था।

मां ने वहीं कहा कि अस्पताल वालों ने मेरे बेटे को मार डाला इतना सुनते ही अस्पताल वाले अस्पताल छोड़ फरार हो जाते हैं।

परिजन पुलिस को सूचित करते हैं और फिर वही होता है जो हमेशा से होता रहा है। पुलिस से आश्वासन मिलता है कि जांच कर कार्रवाई की जाएगी।

दिन बीतता गया लेकिन अस्पताल पर कोई कार्रवाई नहीं हुई। कल धर्मशाला बाजार के लोगों ने सौरव को न्याय दिलाने के लिए कैंडल मार्च निकाला।

इस दौरान लोगों का कहना था कि जबतक सौरव को न्याय नहीं मिलता हम लोग शांति से नहीं बैठेंगे। उन्होंने मुख्यमंत्री योगी से भी मुलाकात कर इस बात को संज्ञान में लाकर कार्रवाई करवाने की बात कही है।

इन सब के बीच अपने लाल को खो चुकी मां का रोजाना अपने बेटे को यादकर के रो रही है, पिता बेसुध है भाई घरवालों को ढांढस बंधा रहा है। इन सब के बीच हमारा प्रशासन से सवाल है कि:

-आखिर सौरव की मौत के जिम्मेदारों को सजा कब मिलेगी?

-अभी तक जिले के अधिकारी अस्पताल जाकर जांच क्यों नहीं किये?

-मुख्यमंत्री के शहर में जब ऐसी लापरवाही है तो अन्य जिलों का क्या हाल होगा?

ऐसा पहली बार नहीं है कि राणा हॉस्पिटल पर लापरवाही का आरोप लगा हो, इससे पहले भी कई बार अस्पताल के डॉक्टरों की लापरवाही का लोग शिकार हो चुके हैं।

गोरखपुर लाइव ने अस्पताल प्रशासन द्वारा सौरव की मौत की खबर को प्रमुखता से दिखाया और हम इस खबर को तब तक प्रकाशित करते रहेंगे जब तक सौरव को न्याय नहीं मिल जाता।