महराजगंज: प्रसव के नाम पर धन उगाही करने वाला नेचुरल उपचार केन्द्र अस्पताल सील

0
117

महराजगंज। जिले के विकाश खण्ड परतावल अंतर्गत ग्राम सभा बड़हरा बरईपार में बिना पंजीकरण के संचालित निजी अस्पताल नेचुरल उपचार केन्द्र में प्रसव कराने को लेकर अस्पताल संचालक और आशा कार्यकर्ता को परतावल सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के अधीक्षक दुर्गेश सिंह ने नोटिस जारी किया था।

Advertisement

नोटिश जारी कर कहा गया था कि धन उगाही कर निजी अस्पताल में प्रसव कराया गया है जिसमें शासन के आदेश की अवहेलना हुए और इस बात को लेकर तीन कार्य दिवस के भीतर कारण नहीं बताने पर आशा कार्यकर्ता की सेवा समाप्ति की कार्रवाई तथा अस्पताल संचालक तीन दिवस के अंदर पंजीकरण सम्बंधित दस्तावेज प्रस्तुत नही करने पर की स्थिति में अस्पताल के खिलाफ भी एफआईआर दर्ज करवाते हुए विभागीय कार्रवाई करने की बात कही गयी थी।

आपको बता दें कि शिकायत कर्ता बिदुर वर्मा ने अपनी पत्नी को प्रसव पीड़ा होने पर अपने गांव की आशा को सूचना दिया था और आशा शीला देवी ने प्रसव करने के लिए मरीजी को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र परतावल ना ले जाकर उन्हें निजी अस्पताल नेचुरल उपचार केंद्र बड़हरा बरईपार में भर्ती कराया।

Advertisement

जहां बिना ऑपरेशन कराए दो जुड़वा बच्चों पैदा हुए और वहां के डॉक्टरों ने प्रसव कराने के बदले में ₹20,000 (बीस हजार रुपये ) ले लिया जिसकी लिखित शिकायत विदुर वर्मा ने की थी जिस पर अधीक्षक डॉ दुर्गेश सिंह ने नोटिस जारी कर अस्पताल संचालक को अपना पक्ष रखने की मोहलत दी थी लेकिन अस्पताल संचालक कागज प्रस्तुत नहीं कर सके।

अधीक्षक डॉ दुर्गेश सिंह ने बताया कि अस्पताल को बंद करा दिया गया है तथा संचालक को निर्देशित किया गया है कि वह पीड़ित से ली गई धनराशि वापस कर दें कानूनी कार्रवाई के लिए मुख्य चिकित्सा अधिकारी महाराजगंज को पत्र भेज दिया गया है।

वहीं अधीक्षक ने बताया कि आशा के खिलाफ शिकायतकर्ता ने अपनी शिकायत वापस ले ली है। लेकिन आशा को लिखित हिदायत दिया गया है कि पुनः भविष्य में ऐसी पुनरावृत्ति होने पर उनके खिलाफ कठोर कार्यवाही करते हुए सेवा समाप्त कर दी जाएगी।

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement