उपभोक्ता का बड़ा आरोप, बिजली मीटर के जांच के नाम पर अधिकारी कर रहे मनमानी, हो रही वसूली

0
200

गोरखपुर। गोरखपुर में इन दिनों बिजली विभाग के अधिकारी काफी एक्टिव नजर आ रहे हैं।

Advertisement

हर दिन शहर के किसी न किसी मोहल्ले में आप साहब लोग को पूरी टीम के साथ किसी के घर की मीटर जांच करते देखते होंगे।

उस जांच में कई गलत लोग जो गलत तरीके से बिजली उपयोग कर रहे हैं वो पकड़े भी जा रहे लेकिन उसी लहर में कई अन्य लोग भी लपेटे में आ जा रहे हैं जो सही तरीके से बिजली जला रहे हैं और हर महीने बिल भी जमा कर रहे हैं।

Advertisement

एक ऐसा ही मामला सामने आया है जहां एक उपभोक्ता ने बिजली विभाग पर गम्भीर आरोप लगाया है और कहा है कि जांच के नाम पर अधिकारी लोगों से वसूली कर रहे हैं।

मामला गोरखपुर के इलाहीबाग का है जहां आगा मस्जिद के पास रहने वाले खुर्शीद आलम खां ने विभाग के अधिकारियों पर वसूली का आरोप लगाया है। 

गोरखपुर लाइव से बातचीत में खुर्शीद आलम ने बताया कि उनका बिल हर महीने जमा होता है अगस्त 2020 तक जमा भी है।

Advertisement

उन्होने बताया आज तक किसी ने मीटर से छेड़छाड़ नहीं की, उसका सील आज तक नहीं टूटा पर फिर भी बिजली विभाग के कुछ लोग आए और ये बोलकर कि मीटर में गड़बड़ी की गई है मीटर तोड़कर जबरन चोरी का मुकदमा दर्ज करा पेनाल्टी लगा गए।

खुर्शीद ने बताया कि 10 अक्टूबर को बिजली विभाग की टीम चेकिंग करने आई जिसमें एसडीओ आरके सिंह और जेई सुनील यादव सहित दो लाइनमैन मनोज एवं संदीप मौजूद थे।

उन्होंने मीटर जांचने की बात कही तो मेरी पत्नी ने उन्हें मीटर जांचने दिया।

Advertisement

मीटर जांच कर वो लोग चले गए फिर करीब आधे घण्टे बाद लाइनमैन वापस आये और सीढ़ी लगाकर लाइन काटने लगे।

पत्नी के पूछने पर कि बिजली क्यों काट रहे हो लाइनमैन ने कहा कि आदेश हुआ है और अगर आप 40 हजार रुपये दे देंगी तो लाइन नहीं कटेगा।

लाइनमैन ने उन्हें बताया कि ये पैसा एसडीओ और जेई साहब को देना होता है।

Advertisement

बिजली न कटे इस डर से घर पर मौजूद पत्नी ने लाइनमैन को 10 हजार रुपया दे दिया और कहा कि जब मेरे पति आएंगे तो बात होगी।

अगले दिन खुर्शीद ने लाइनमैन मनोज को फोन कर जब पूछा कि 10 हजार रुपये क्यों और किस बात का लिया गया है तो इस पर लाइनमैन मनोज बिफर गया और 10 हजार रुपये खुर्शीद आलम को वापस कर आया।

खुर्शीद ने बताया कि अगले दिन यानी 12 अक्टूबर को दिन 12 बजे के करीब मैं घर से बाहर था उसी समय जेई सुनील यादव, लाइनमैन संदीप और मनोज विजिलेंस की टीम लेकर घर में घुस गए।

Advertisement
ADVT.

पत्नी ने फोन कर खुर्शीद को घर बुलाया जिसके बाद उनके सामने ही विभाग के लोग मीटर तोड़कर लेते गए और कहें कि आपका मीटर का डिस्प्ले मैच नहीं हो रहा और इसके बाद उन्होने लाइन कटवा दिया।

बातचीत में खुर्शीद आलम ने बताया मेरे घर में मात्र 1 ऐसी है लेकिन विभाग वालों ने कागज में दो दर्शा कर 7Kw का लोड बनाकर मनमानी व फर्जी तरीके से थाने में रिपोर्ट दर्ज करा दिए।

7 केवी लोड मानकर 28 हजार समन शुल्क  और 141202.25 रुपये एक साल का पेनाल्टी लगा डाला।

Advertisement

खुर्शीद ने बताया कि ईमानदारी से अपने 10 हजार मांगना मेरे और मेरे परिवार के लिए आफत हो गया। खुर्शीद प्राथना पत्र लिखकर मुख्य अभियंता से इस पर जांचकर कार्रवाई करने की अपील भी किये हैं।

इस बारे में गोरखपुर लाइव ने जेई सुनील यादव से बात करने की कोशिश की तो उन्होंने हमें बताया कि खुर्शीद पर कार्रवाई सही हुई है और वो बिजली चोरी कर रहे थे।

जब हमने 10 हजार वाला सवाल किया तो सुनील यादव ने इस पर कोई जानकारी न होने की बात कही।

Advertisement

इस बारे में हमने एसडीओ आरके सिंह से संपर्क साधने की कोशिश की पर सम्पर्क नहीं हो पाया।

अब जिस तरीके से उपभोक्ता ने विभाग का जांच के नाम पर वसूली करने का आरोप लगाया है तो अब देखना होगा कि विभाग इस पर क्या सफाई अपने उच्च अधिकारियों को पेश करता है।

Advertisement
Advertisement
Advertisement

Advertisement